भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जड़ों तक हो असर पत्तों में जुम्बिश हो तो ऐसी हो / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जड़ों तक हो असर पत्तों में जुम्बिश हो तो ऐसी हो ।
समूचा पेड़ हिल जाए, जो कोशिश हो तो ऐसी हो ।

जलाया जिसने हमको रौशनी उसको भी दी हमने,
सख़ावत हो तो ऐसी हो नवाज़िश हो तो ऐसी हो ।

तअस्सुब के तमाम आतिशकदों में आग लग जाए,
शरर आपस में लड़-मर जाएँ साज़िश हो तो ऐसी हो ।

दर-ओ-दीवार पर जो ख़ून के धब्बे हैं धुल जाएँ,
हमारे शह्र में इमसाल बारिश हो तो ऐसी हो ।

जिएँगे प्यार की ख़ातिर मरेंगे प्यार की ख़ातिर,
तमन्ना हो तो ऐसी हो जो ख़्वाहिश हो तो ऐसी हो ।