भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जनता की रोटी / बर्तोल ब्रेख्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इन्साफ़ जनता की रोटी है ।
कभी बहुत ज़्यादा, कभी बहुत कम ।
कभी ज़ायकेदार, कभी बदज़ायका ।
जब रोटी कम है; तब हर तरफ़ भूख है ।
जब रोटी बदज़ायका है; तब ग़ुस्सा ।

उतार फेंको ख़राब इन्साफ़ को—
बिना लगाव के पकाया गया,
बिना अनुभव के गूँधा गया !
बिना बास-मिठास वाला
भूरा-पपड़ियाया इन्साफ़
बहुत देर से मिला बासी इन्साफ़ ।

अगर रोटी ज़ायकेदार और भरपेट है
तो खाने की बाक़ी चीज़ों के लिए
        माफ़ किया जा सकता है
हरेक चीज़ यक्-बारगी तो बहुतायत में
नहीं हासिल की जा सकती है न !
इन्साफ़ की रोटी पर पला-पुसा
काम अंजाम दिया जा सकता है
जिससे कि चीज़ों की बहुतायत मुमकिन होती है ।

जैसे रोज़ की रोटी ज़रूरी है
वैसे ही रोज़ का इंसाफ़ ।
बल्कि उसकी ज़रूरत तो
        दिन में बार-बार पड़ती है ।

सुबह से रात तक काम करते हुए,
आदमी अपने को रमाए रखता है—
काम में लगे रहा एक क़िस्म का रमना ही है ।
कसाले के दिनों में और ख़ुशी के दिनों में
लोगों को इन्साफ़ की भरपेट और पौष्टिक
        दैनिक रोटी की ज़रूरत होती है ।

चूँकि रोटी इन्साफ़ की है, लिहाज़ा दोस्तो,
यह बात बहुत अहमियत रखती है
कि उसे पकाएगा कौन ?

दूसरी रोटी कौन पकाता है ?

दूसरी रोटी की तरह
इन्साफ़ की रोटी भी जनता के हाथों पकी होनी चाहिए ।

भरपेट, पौष्टिक और रोज़ाना ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुरेश सलिल