भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जन्म के गीत-1 / छत्तीसगढ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

महला मां ठाढि बलमजी
अपन रनिया मनावत हो
रानी पीलो मधु-पीपर,
होरिल बर दूध आहै हो।
कइसे के पियऊँ करुरायवर
अउ झर कायर हो
कपूर बरन मोर दाँत
पीपर कइसे पियब हो
मधु पीपर नइ पीबे
त कर लेहूं दूसर बिहाव
पीपर के झार पहर भर
मधु के दुइ पहर हो
सउती के झार जनम भर
सेजरी बंटोतिन हो
कंचन कटोरा उठावब
पीलडूं मधु पीपर हो