भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जबते राम नाम मत सानी / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जबते राम नाम मत सानी।
रच पच रही गहो निज मारग काल कर्म की फिकर भुलानी।
बलहारों सतगुरु चरनन की दीजी अजब नाम सहदानी।
निस दिन बजत नाम की नौबद सुनि-सुनि शब्द प्रेम धुनि ठानी।
चार वेद वर खट शास्त्र मिल सोई शब्द गावत मुनि ग्यानी।
जूड़ीराम सतगुरु बलहारी जिन यह कही अगम धर बानी।