भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जबीं पर ख़ाक ये किस के दर की / मुबारक अज़ीमाबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जबीं पर ख़ाक ये किस के दर की
बालाएँ ले रहा हूँ अपने सर की

उभर आई हैं फिर चोटें जिगर की
सलामत बरछियाँ तिरछी नजर की

कयामत की हकीकत जानता हूँ
ये इक ठोकर है मेरे फ़ित्ना-गर की

किया मजबूर आईन-ए-वफ़ा ने
न करनी थी वफ़ा तुम से मगर की

न मानोगे न मानोगे हमारी
उधर हो जाएगी दुनिया इधर की

हुई अन-बन किसी से मुझ पे बरसे
बालाएँ मेरे सर दुश्‍मन के सर की

न तेरे हुस्न-ए-बे-परवा की गायत
न कोई हद मेरे जौक-ए-नज़र की