भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब आप पिए हुए हों, खूब होती है मौज / आन्ना अख़्मातवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: आन्ना अख़्मातवा  » जब आप पिए हुए हों, खूब होती है मौज

तयशुदा समय से थोड़ा पहले
आ पहुँचा है पतझड़
पीले परचमों के साथ शोभायमान हैं एल्म के पेड़.
वंचनाओं की जमीन पर बिखर गए हैं हम
पछतावे में उभ-चुभ करते
और तिक्तता से लबरेज।

हमने क्यों ओढ़ रखी है
अजनबियत से भरी जमी हुई मुस्कान?
और शान्तचित्त प्रसन्नता के बदले
चाह रहे हैं बेधक संताप....

मैंने खुद को त्याग नहीं दिया है साथी!
अब मैं हूँ व्यसनी और सौम्य
जानते हो साथी!
जब आप पिए हुए हों, खूब होती है मौज़!


अंग्रेज़ी से अनुवाद : सिद्धेश्वर सिंह