भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब आह भी चूप हो तो ये सहराई करे क्या / सरवत ज़ोहरा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब आह भी चूप हो तो ये सहराई करे क्या
सर फोड़े न ख़ुद से तो ये तन्हाई करे क्या

गुज़री जो इधर से तो घुटन से ये मरेगी
हब्स-ए-दिल-ए-वहशी में ये पुरवाई करे क्या

कहती है जो कहने दो ये दुनिया मुझे क्या है
ज़िंदानी-ए-अहसास में रूसवाई करे क्या

हर हुस्न ओ अदा धँस गए आईने के अंदर
जब राख हों आँखें तो ये ज़ेबाई करे क्या

वो ज़ख्म कि हर लम्स नया ज़ख्म लगे है
बीमारी-ए-इदराक मसीहाई करे क्या

पल भर को ये सौदा-ए-जुनूँ कम नहीं होता
शहरों के तकल्लुफ़ में ये सौदाई करे क्या