भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब जब प्यार सदाएं देगा / रविन्द्र जैन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब जब प्यार सदाएं देगा तुमको दीवाना बना के
तब तब तुमको आना ही होगा मीत
मेरे मन के मीत मेरे मन के

अरमानों की धरती पे मन्दिर सपनों का बना
तुम मूरत बन जाओ तो पूरा हो सपना
प्यार पूजा बने तुम रहो सामने
साथ हम तुम रहें जिस्म-ओ-जां बन के
जब जब प्यार ...

नफ़रत का तूफ़ां कोई ये संसार उठाए ना
रस्मों की दीवारें कहीं राह में आएं ना
प्यार जब हो जवां जल उठा है जहां
साथ हैं डोलते दिये में उलझन के
ओ जब जब प्यार ...

तूफ़ानों के डर से हम यूं मजबूर नहीं होंगे
मिट जाएंगे प्यार से दूर नहीं होंगे
ये है वादा सनम हँस के झेलेंगे हम
वो खुशी हो या ग़म सारे जीवन के
जब जब प्यार ...