भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब साजन ही परदेस गये मस्ताना फागण क्यूँ आया / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब साजन ही परदेस गये मस्ताना फागण क्यूँ आया
जब सारा फागण बीत गया तैं घर में साजन क्यूँ आया
छम छम नाचैं सब नर नारी मैं बैठी दुखां की मारी
मेरे मन में जब अंधेरा मचा तैं चान्द का चांदण क्यूँ आया
इब पीया आया जी खित्याना जब जी आया पी मित्याना
साजन बिन जोबन क्यूँ आया जोबन बिन साजन क्यूँ आया
मन की तै अर्थी बंधी पड़ी आंख्यां मैं लागी हाय झड़ी
जब फूल मेरे मन का सूक्या लजमारा फागण क्यूँ आया