भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जमुन-जल मेघ / बुद्धिनाथ मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लौट आए हैं जमुन-जल मेघ

सिन्धु की अंतर्कथा लेकर ।


यों फले हैं टूटकर जामुन

झुक गई आकाश की डाली

झाँकती हैं ओट से रह-रह

बिजलियाँ तिरछी नज़र वाली

ये उठे कंधे, झुके कुंतल

क्या करें काली घटा लेकर !


रतजगा लौटा कजरियों का

फिर बसी दुनिया मचानों की

चहचहाए हैं हरे पाखी

दीन आँखों में किसानों की

खंडहरों में यक्ष के साए

ढूंढ़ते किसको दिया लेकर ?


दूर तक फैली जुही की गंध

दिप उठी सतरंगिनी मन की

चंद भँवरे ही उदासे गीत

गा रहे झुलसे कमल-वन में

कौन आया द्वार तक मेरे

दर्भजल सींची ऋचा लेकर ?


दर्भजल=कुश से टपकता जल