भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जय हिन्‍द / त्रिलोकचन्‍द महरूम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पैदा उफ़क़े –हिन्‍द से हैं सुबह के आसार
है मंज़िले-आखिर में ग़ुलामी की शबे-तार

     आमद सहरे-नौ की मुबारक हो वतन को
                      पामाले – महन को

मश्रिक़ में ज़ियारेज हुआ सुबह का तारा
फ़र्ख़न्‍दा-ओ-ताबिन्‍दा-ओ-जांबख़्श-ओ-दिलआरा

     रौशन हुए जाते हैं दरो-बाम वतन के
                   ज़िन्‍दाने – कुहन के

‘जयहिन्‍द’ के नारों से फ़ज़ा गूँज रही है
‘जयहिन्‍द’ की आलम में सदा गूँज रही है

     यह वलवला यह जोश यह तूफ़ान मुबारक
                    हर आन मुबारक

अहले-वतन आपस में उलझने का नहीं वक़्त
ऐसा न हो गफ़्लत में गुज़र जाये कहीं वक़्त

     लाज़िम है कि मंज़िल के निशाँ पर हों निगाहें
                    पुरपेच हैं राहें

वह सामने आज़ादिए-कामिल का निशाँ है
मक़सूद वही है, वही मंज़िल का निशाँ है

     दरकार है हिम्‍मत का सहारा कोई दम और
                    दो चार क़दम और