भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जलीय रिश्ता-नाता / बलदेव वंशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरती में गुँथे अपने रूपों को निहारता
पहचान में लहर-लहर होता
यह जल ही ज़लज़ले उठाता है देह में मन में
भावना के तूफानों
भवता और भाव के बियाबानों में
ज़रा भटक कर देखो
उतरो
अपने ही अचेतन तहखानों में
जहाँ तुम क़ैद हो
वहीं मुक्ति है !


धरा में
रेशा-रेशा समाए जल से जुड़कर
तुम्हारा रक्त उछालें खाता है
जितना जल है धरती में
उतना ही क्यों
तुम्हारी देह में समाता है?

इस फैली-खिली दुनिया से
बस
क़तरा भर का तुम्हारा नाता है !...