भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जवान होती लड़की / मानबहादुर सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक जवान होती लडकी
केवल देह होती है
सावन चढ़े आकाश के नीचे
पूरा भूगोल होती है
एक उमड़ी-सी नदी -- डगमगाती नाव को
भरमाती भँवर होती है
दूरागत लोक धुनि की ओर
ठिठकी साँस होती है
आयु के लम्बे बरस के बीच
महकी फगुनाहट धूप होती है
धरती के उमगते वक्ष पर
बौखलाई सौन्धी गन्ध होती है
चारों युगों के बीच कलियुग
कलियुग के बीच कालीदास होती है
बोलने की सब विधाओं में
कविता गीत होती है
कविता के लजीले रूप गौरव मे
छायावाद होती है
हड्डियों के चौखटे मे बन्द
पलकों के कपाटों बीच
उझकती रोशनी की कम्प होती है
घर की प्यास होती है
एक भूखे और नंगे देश की
राजधानी में
कैबरे की नाच होती है