भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जहाँ शीशा है पत्थर जागते हैं / अहसन यूसुफ़ ज़ई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जहाँ शीशा है पत्थर जागते हैं
ज़रर-ईजाद घर घर जागते हैं

सदफ़ आसूदगी की नींद सोए
मगर प्यासे समुंदर जागते हैं

उड़ी अफ़्वाह अंधी बस्तियों में
सितारों से मुक़द्दर जागते हैं

लुटेरों के लिए सोती हैं आँखें
मगर हम अपने अंदर जागते हैं

अंधेरों में खंडर सोता पड़ा है
अबाबीलों के लश्कर जागते हैं