भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जहाँ साँस है / आदम ज़गायेव्स्की

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह अकेले खड़ी है मंच पर
और उसके पास कोई साज़ नहीं

वह अपने वक्षों पर बिछाती है अपनी हथेलियाँ
जहाँ साँसों का जन्म होता है
और जहाँ मरती हैं वे

हथेलियां नहीं गातीं
वक्ष भी नहीं गाते

गाता वही जो ख़ामोश बचा रहता है


अँग्रेज़ी से अनुवाद : गीत चतुर्वेदी