भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जहान-ए-दिल में सन्नाटा बहुत है / ताबिश मेहदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जहान-ए-दिल में सन्नाटा बहुत है
समंदर आज कल प्यासा बहुत है

ये माना वो शजर सूखा बहुत है
मगर उस में अभी साया बहुत है

फ़रिश्तों में भी जिस के तज़किरे हैं
वो तेरे शहर में रुसवा बहुत है

ब-ज़ाहिर पुर-सुकूँ है सारी बस्ती
मगर अंदर से हँगामा बहुत है

उसे अब भूल जाना चाहता हूँ
कभी मैं ने जिसे चाहा बहुत है

वो पत्थर क्या किसी के काम आता
मगर सब ने उसे पूजा बहुत है

मेरा घर तो उजड़ जाएगा लेकिन
तुम्हारे घर को भी ख़तरा बहुत है

मेरा दुश्मन मेरे अशआर सुन कर
न जाने आज क्यूँ रोया बहुत है