भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़माने के चलन पे हद से गिर जाने की बातें क्यों / मनोज मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़माने के चलन पे हद से गिर जाने की बातें क्यों
ज़बान-ए-मर्द से आख़िर मुकर जाने की बातें क्यों
 
अगर अहसास मर जाएँ तो बाक़ी कुछ नहीं रहता
जियो ज़िंदादिली से घुट के मर जाने की बातें क्यों
 
तुम्हारे ख़ून में शामिल है चट्टानें कुचल देना
ज़रा-सी ठेस पे यूँ ही बिखर जाने की बातें क्यों
 
जुदाई के तसव्वुर से मेरी रूह काँप जाती है
ये माना रुक नहीं सकते मगर जाने की बातें क्यों
 
‘मनु’ शींरी ज़बां में गुफ़्तगू करिए ज़माने से
किसी के दिल में नश्तर-सी उतर जाने की बातें क्यों