भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़मानो कंहिं सां कंहिं पासे, सुरे किअं थो, ॾिसूं वेठा / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़मानो कंहिं सां कंहिं पासे, सुरे किअं थो, ॾिसूं वेठा।
को देना दास्ती कंहिं खे, फुरे किअं थो, ॾिसूं वेठा॥

उथनि उफ़्वाह किअं था, कीअं थियूं हिति साज़िशूं सिटिजनि।
नगर जे जीअ में हुलु कहिड़ो, हुरे किअं थो, ॾिसूं वेठा॥

खुली आम ऐं वॾे वाके, ठॻियूं होका ॾियनि पयूं थ्यूं।
ऐं सचतु कहिड़ीअ तराज़ीअ में, तुरे किअं थो, ॾिसूं वेठा॥

हवाउनि जी हुशीअ ते परमतियूं छोलियूं, छंछिनि थ्यूं छोह।
ऐं मन ई मन में साहिल, झुरे किअं थो, ॾिसूं वेठा॥

सचाई तुंहिंजे टहिकनि जी, भॻल अखिड़ियुनि मां पथिरी आ।
खिलण सां तुंहिंजी दिलि जो फटु, कुरे किअं थो, ॾिसूं वेठा।