भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़िक्र मत करना मेरी रुसवाई का / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़िक्र मत करना मेरी रुसवाई का ।
वो बना देता है पर्वत राई का ।

कोई कहता है असर चश्मे का है,
कोई कहता है हुनर बीनाई का ।

हो गए मुँह बन्द अच्छे अच्छों के,
जब खुला दर झूठ की सच्चाई का ।

जो बड़े थे वो भी छोटे हो गए,
कौन पूछे हाल छोटे भाई का ।

बिक गई बिकती न जो मेरी किताब,
एक ये भी फल मिला रुसवाई का ।

डूबने की चाह कर बैठे ’नदीम’
हमको अन्दाज़ा न था गहराई का ।