भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़िक्र है दर्द का इक शहर बसा है मुझ से / मनमोहन 'तल्ख़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़िक्र है दर्द का इक शहर बसा है मुझ से
अब ये जाना के मेरा दर्द बड़ा है मुझ से

बहुत एहसाँ जो कोई भी मिला है मुझ से
शहर का शहर मगर जैसे ख़फा है मुझ से

बारहा ख़ुद पे मैं हैरान बहुत होता हूँ
कोई है मुझ में जो बिल्कुल ही जुदा है मुझ से

कट से जाते हैं सभी कोई नहीं कुछ कहता
कौन सा जाने कु़सूर ऐसा हुआ है मुझ से

मुँह पे कहने तो लगे है मेरी बस्ती वाले
बात करने का चलन कुछ तो चला है मुझ से

बात करते हुए ख़ुद से जो गुज़रता है कोई
मुझ को लगता है ये कुछ उस ने कहा है मुझ से

अभी लौट आएगा मेरी ही तरह कुढ़ता सा
मेरे ही घर का पता पूछ गया है मुझ से

मै ने ये सब से कहा तुम तो कहीं के न रहे
और देखो के यही सब ने कहा है मुझ से

है कोई मुझ सा कहूँ क्या न मैं जानूँ न कुछ और
और मेरा ही पता पूछ रहा है मुझ से

‘तल्ख़’ जाता ही नहीं दुख के नगर कहता है
है वहाँ जो भी वो मिल कर ही गया है मुझ से