भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़िन्दगीअ जूं घड़ियूं, बस कयो, न हाणे सतायो / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़िंदगीअ जूं घड़ियूं, बस कयो, न हाणे सतायो।
मूं खे निन्ड अचे थी, मुंहिंजो हंधु विछायो॥

ही खिंवणि जो तमाशो, ऐं ही खेलु हवा जो।
दिल खे खू़ब वणियो पर, हाणे मींहुं वसायो॥

माठि जी सुई आवाज़नि जा चप सिबी वेई।
कूक दांह अखियुनि सां ई ॿुधो ऐं ॿुधायो॥

छा मिलियोसे किताबनि जे उजाले में भिटिकी?
जिंअं जो तिअं ई रहियो अॼु भी, अंधेरे जो सायो॥

दिल ते चोट सहण जो लुत्फु़ याद ॾियारियो।
अॼु त उन ई अदा सां मुरिकी, नेण मिलायो॥