भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़िन्दगी जब तलक तमाम न हो / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़िन्दगी जब तलक तमाम न हो
रास्ते में कहीं क़याम न हो

घर में रिश्ते बिखर चुके लेकिन
दुश्मनों में ख़बर ये आम न हो

कुछ ताअल्लुक़ नहीं, नहीं न सही
ख़त्म लेकिन दुआ सलाम न हो

हंसते हंसते चलो जुदा हो जाएं
आंसुओं पर सफ़र तमाम न हो