भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़िन्दगी थी सुराब हो के रही / परमानन्द शर्मा 'शरर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़िन्दगी थी सुराब हो के रही
अपनी मिट्टी ख़राब हो के रही

हमने कोशिश तो की न रोएँ मगर
बेबसी बे-नक़ाब हो के रही

क्या कहूँ उस जुनूँ की जिसके तफ़ैल
आरज़ू बे-हिजाब हो के रही

हाय वो इक दबी- दबी-सी नज़र
क्या हक़ीक़त थी ख़्वाब हो के रही

उनकी फ़ुर्क़त में ज़िन्दगी अपनी
इक मुसलसल अज़ाब हो के रही

उनसे मिलने की मुख़तसर -सी बात
ख़्वाब जैसी थी ख़्वाब हो के रही

ज़िन्दगानी की कशमकश में ‘शरर’
सर्फ़ उम्रे-शबाब हो के रही