भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़ुर्म / मनोहर बाथम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कामरेड हमीद के लिए

ईद के दिन हमारी चौकी पर
पीछे के दरवाज़े से
उसने सिवईयाँ भेजीं चुपचाप
किसी को न बताने की शर्त थी

मेरी दीपावली की मिठाई भी शायद
इस तरह से जाती

वो हो गया रुख़सत दुनिया से
मेरे साथ ईद मनाने के ज़ुर्म में