भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़ुल्मत-ए-शब ही सहर हो जाएगी / सिकंदर अली 'वज्द'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़ुल्मत-ए-शब ही सहर हो जाएगी
शिद्दत-ए-ग़म चारागर हो जाएगी

रोने वाले यूँ मुसीबत पर न रो
ज़िंदगी इक दर्द-ए-सर हो जाएगी

बाद-ए-तामीर-मकाँ ज़ंजीर-ए-ग़म
उल्फ़त-ए-दीवार-ओ-दर हो जाएगी

ला दलील-ए-इश्‍क-ओ-मस्ती दरमियाँ
ख़त्म बहस-ए-ख़ैर-ओ-शर हो जाएगी

ज़िक्र अपना जा-ब-जा अच्छा नहीं
सब कहानी बे-असर हो जाएगी

सुब्ह-ए-राहत के तसव्वुर के तुफ़ैल
हर शब-ए-ग़म मुख़्तसर हो जाएगी

सिर्फ़-ओ-अज़्म-ए-आतशीं दर-कार है
उम्र सर-गर्म-ए-सफ़र हो जाएगी

आ रहा है इंक़िलाब-ए-हश्र-ख़ेज
ज़िंदगी ज़ेर ओ ज़बर हो जाएगी