भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जाडो / श्रवण मुकारुङ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ल्याम्पपोस्टमुनि आगोतापिरहेछन्— नानीहरू
युगौँदेखि छ— जाडो
उहिल्यै त दाउरा बाल्थे रे ताप्न
बाल्थे रे— पानी र हावा
हामीले बाल्यौँ टायर भत्केका मिनी बसका
बाल्यौँ खबरकागज र राजनेताका पम्प्लेट
आज नानीहरू बालिरहेछन्— धर्मग्रन्थका अन्तिम पृष्ठ
फिल्मफेयर र आधुनिक कविता
के बाल्लान् भोलिका नानीहरू ?
के बाल्लान् हँ…  ?।

युगौँदेखि छ— जाडो

ल्याम्पपोस्टमुनि आगो तापिरहेछन्— नानीहरू ।