भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जाते-जाते वो मौसम भी क्या ले गया / ज्ञान प्रकाश विवेक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाते-जाते वो मौसम भी क्या ले गया
राह के सूखे पत्ते उठा ले गया

उस मसीहे का सच क्या बताऊँ तुम्हें
जो दुआओं के बदले दवा ले गया

वारदातो के उस शहर में हर कोई
अपनी मुठ्ठी में पत्थर उठा ले गया

वो मुसाफ़िर भी अब ख़ुद पशेमान है
च्हीन कर मुझसे जो रास्ता ले गया

पूरे दिन में जिसे एक रोटी मिली
अपने बच्चों की ख़ातिर बचा ले गया

उससे क्या कोई होगा बड़ा राहज़न
मेरे जीवन की जो आस्था ले गया.