भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जादू / संजय कुंदन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कौन-सी चीज़ कब जादू कर दे
कहना मुश्किल है
किसी दिन चले गए चौलाई साग लाने
पाँच किलोमीटर दूर पैदल प्रचण्ड धूप में
फिर स्वाद-स्वादकर खाया और दूसरों को भी बताया
कई दिनों तक चर्चा की

कोई कह सकता है एक मामूली चीज़ के लिए
ऐसा पागलपन ... क्या मतलब है !
अब जादू तो जादू होता है
वह बड़ा या छोटा नहीं होता

एक दिन आया भीख माँगता कोई
पता नहीं ऐसा क्या गाया कि भर्रा गया गला
मन न जाने कहाँ चला गया कितने बरस पीछे
कि लौटना मुश्किल हो गया

भटकते रहे एक पुराने शहर में
ताकते रहे खिड़कियों पर
न जाने क्या खोजते रहे ?