भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जानना बचना नहीं है / आशुतोष दुबे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राम जानते हैं कि
सोने का हिरण हो नहीं सकता
फिर भी उन्हें उसके पीछे - पीछे
जाना है

किससे कहें कि हिरण झूठा था
पर इच्छा सच्ची थी
थके - हाँफते, पसीने में लथपथ, सूखे गले और धड़कते हृदय से राम
खाली हाथ जब लौटेंगे


क्या जानते होंगे कि अब
प्रियाहीन
होना है

रोना है

जागना है
एक अधूरी इच्छा के प्रेत से
बचते हुए
फिर से
भागना है