भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जाने उस ने क्या देखा शहर के मनारे में / सरवत हुसैन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाने उस ने क्या देखा शहर के मनारे में
फिर से हो गया शामिल ज़िंदगी के धारे में

इस्म भूल बैठे हम जिस्म भूल बैठे हम
वो हमें मिली यारों रात इक सितारे में

अपने अपने घर जा कर सुख की नींद सो जाएँ
तू नहीं ख़सरो में मैं नहीं ख़सारे में

मैं ने दस बरस पहले जिस का नाम रक्खा था
काम कर रही होगी जाने किस इदारे में

मौत के दरिंदे में इक कशिश तो है ‘सरवत’
लोग कुछ भी कहते हों ख़ुद-कुशी के बारे में