भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जाने कब से सन्दल पर साँपों का क़ब्ज़ा है / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाने कब से सन्दल पर साँपों का क़ब्ज़ा है
ख़ुशबू का तन ज़हरीले बन्धन में जकड़ा है

कल मज़हब के मेले में दूकानें लगती थीं
अब मज़हब की दूकानों पर मेला लगता है

आँधी आती है तो धरती को फल मिलते हैं
पेड़ों को फल रोके रखने का फल मिलता है

गलियाँ सड़कें घर दूकानें चाहे जैसी हों
लोग जहाँ अच्छे होते हैं अच्छा लगता है