भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जाने किस ख़्वाब का सय्याल नशा हूँ मैं भी / राज नारायन 'राज़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाने किस ख़्वाब का सय्याल नशा हूँ मैं भी
उजले मौसम की तरह एक फ़ज़ा हूँ मैं भी

हाँ धनक टूट के बिखरी थी मिरे बिस्तर पर
ऐ सुकूँ लम्स तिरे साथ जिया हूँ मैं भी

राह पामाल थी छोड़ आया हूँ साथी सोते
कोरी मिट्टी का गुनह-गार हुआ हूँ मैं भी

कितना सरकश था हवाओं ने सज़ा दी कैसी
काठ का मुर्ग़ हूँ अब बाद-नुमा हूँ मैं भी

कैसी बस्ती है मकीं जिस के हैं बूढ़े बच्चे
क्या मुकद्दर है कहाँ आ के रूकाँ हूँ मैं भी

एक बे-चेहरा सी मख़लूक है चारों जानिब
आईनों देखो मुझे मस्ख़ हुआ हूँ मैं भी

हाथ शमशीर पे है ज़ेहन पस-ओ-पेश में है
‘राज़’ किन यारों के मा-बैन खड़ा हूँ मैं भी