भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जान ए अज़ीज़, रख्खियो न हम को नज़र से दूर / रविंदर कुमार सोनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जान ए अज़ीज़, रख्खियो न हम को नज़र से दूर
है अपनी राह, जादा ए शाम ओ सहर से दूर

शाम ए फ़िराक़ आतिश ए ग़म क्या जलाएगी
गिरती है बरक़ ए तूर भी हद ए नज़र से दूर

ऐश ओ तरब का दौर है साक़ी पिला शराब
मैं आ गया हूँ रक़स कुनाँ अपने घर से दूर

ऐ कजरवी ए वक़्त तू ही कर निशानदही
मेरी नज़र है जलवा ए शम्स ओ क़मर से दूर