भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जा मुरली तो मधुर सुना जाव फिर मथुरा खो चले जावो / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

जा मुरली तो मधुर सुनाएं जाव, फिर मथुरा खों चले जावो।
मुरली बजे श्याम की प्यारी, जा में वश कीन्हें बृजनारी,
सोवत जगी राधिका प्यारी।
हमें सुर को तो शब्द सुनाये जाओ। फिर...
तुम बिन हमें कछु न भावे,
जो मन दरसन खों ललचावे, सूरत सपने में दरसावे,
हमें नटवर तुम संगे लिवाए जाओ।। फिर...
सोहे भाल तिलक छवि न्यारे, दोई नैनाहैं रतनारें,
कानन कुण्डल डुले तुम्हारे।
अपना मोहिनी रूप दिखाए जाओ। फिर...
गारी श्रीकृष्ण की प्यारी,
उनके चरणन की बलहारी, जिनको भजते सब संसारी।
हमें चरणन की दासी बनाए जाओ। फिर...