भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिन्दगी भी कमाल करती है / गोपाल कृष्ण शर्मा 'मृदुल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिन्दगी भी कमाल करती है।
उम्र भर देखभाल करती है।।

कोशिशों में कमी नहीं रखती,
हर जतन से सँभाल करती है।।

हार कर भी न बैठती चुप है,
फिर सँभल कर धमाल करती है।।

जूझने का शऊर गर है तो,
नेमतों से निहाल करती है।।

जोश-हिम्मत का साथ मिल जाये,
काम फिर बेमिसाल करती है।।

देख कर रूह काँपती फिर भी,
मौत से कदमताल करती है।।