भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिन्स-ए-गिराँ थी ख़ूबी-ए-क़िस्मत नहीं मिली / शाहिद माहुली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिन्स-ए-गिराँ थी ख़ूबी-ए-क़िस्मत नहीं मिली
बिकने को हम भी आये थे क़ीमत नहीं मिली

हंगाम-ए-रोज़-ओ-शब के मशागिल थे और भी
कुछ कारोबार-ए-ज़ीस्त से फ़ुर्सत नहीं मिली
 
कुछ दूर हम भी साथ चले थे कि यूँ हुआ
कुछ मसअलों पे उनसे तबीयत नहीं मिली

इक आँच थी कि जिससे सुलगता रहा वजूद
शोला सा जाग उट्ठे वो शिद्दत नहीं मिली

वो बेहिसी थी ख़ुश्क हुआ सब्ज़ा-ए-उम्मीद
बरसे जो सुबह-ओ- शाम वो चाहत नहीं मिली

ख़्वाहिश थी जुस्तजू भी थी दीवानगी न थी
सहरा-नवर्द बनके भी वहशत नहीं मिली

वह रोशनी थी साए भी तहलील हो गए
आईनाघर में अपनी भी सूरत नहीं मिली