भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिमि पवन-घाते अचल जल / सरहपा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

         जिमि पवन-घाते अचल जल,
         चलै तरंगित होइ ।
जिमि मूढ़ विलोम नेत्र को, एकै द्वीप दो भासै,
घरे बहुत दीपक जलै, तऊ जिमि नयनहीन को अंधार रहै,
नदी नाना तौ समुद्र है... सूर्य एक प्रकाशै,
जिमि जलधर समुद्र से पानी ले भूमि भरै।

पंडित राहुल सांकृत्यायन द्वारा अनूदित