भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिस दर पै ठिकाना है वह दर कभी न ढूँढा / बिन्दु जी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिस दर पै ठिकाना है वह दर कभी न ढूँढा।
जिस घर में पहुँचना है वह घर कभी न ढूँढा।
इस दिल से उन्हें ढूँढा जिनसे नहीं कुछ हासिल।
दिल जिसने दिया है तो दिलदार कभी न ढूँढा।
मंदिर में उसे ढूँढा मस्जिद में उसे ढूँढा।
एक बार दिल के अंदर मगर कभी न ढूँढा।
वो लाख बार ढूँढा पर अक्ल से हिकमत से।
आँखों में ‘बिन्दु’ आँसू भरकर कभी न ढूँढा।