भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीअं जीअं शहर में घिरियुसि / ब्रज मोहन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अघु पंहिंजों ई न
ॿियनि जो बि किरियलु ॾिठुमि
मुंहिंजे क़द जो मापो कोन्हे
मुंहिंजे क़द जो को भरोसो बि कोन्हे
वञे थो उहो ॾींहों ॾींहुं नन्ढो थीन्दो!
मूंखे आदत पियल आहे
ज़िंदगीअ खे
हिन्दी सिनेमा जे परदे ते ॾिसण जी
रोशनीअ में ज़िन्दगी
मूंखे वाघू ई लॻी आहे
डाक्टर खे इनामु मिलियो आ
ताड़ियूं ज़ोर सां वॼायो
सिजु डप विचां
तिरीअ पुठियां लिको आहे
हीउ निविड़ियलु नज़र केरु थो अचे?
हीउ झुकी
केरु थो हले?
वरी कंहिं खे पेट में
पुछु निकितो आ?