भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीउने ढङ्ग / रमेश क्षितिज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हाँसी जीउने कि आफ्नै आँसु पिउने
आफ्नोआफ्नो ढड्ड हो जीवन जीउने

खुसी हुन्न वस्तुमा मन हो भण्डार
दुःखीलाई दुःखकै सागर संसार
सङ्घर्षले जित्ने कि हारी भाग्ने हो
जीवन यौटा वरदान केके माग्ने हो

दुःख यौटा पाठ हो सिक्छ ज्ञानीले
बुझिदिन्न दैवलाई दोष दिनेले
आफ्नै हातमा साँचो छ ढोका उघार्ने
जीवन खेर फाल्ने कि सीपले सिँगार्ने