भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीवन कागज़ की तरह / त्रिलोक सिंह ठकुरेला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीवन कागज की तरह, स्याही जैसे काम।
जो चाहो लिखते रहो, हर दिन सुबहो-शाम॥

नयी पीढ़ियों के लिए, जो बन जाते खाद।
युगों युगों तक सभ्यता, रखती उनको याद॥

मन का अंधियारा मिटे, चंहुदिश फैले प्यार
दीप-पर्व हो नित्य ही, कुछ ऐसा कर यार

सुख की फुलझड़ियाँ जलें, सब में भरें उजास
पीड़ा और अभाव का, कभी न हो अहसास

गली गली पसरे हुए, रावण के ही पाँव
दीप पर्व पर राम सा, बने समूचा गाँव