भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीवन गाते गाते बीते / गुलाब खंडेलवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


       जीवन गाते-गाते बीते
और पहुँच कर अन्तिम सुर पर सुमनान्जलि-सा रीते

 दिन भर सागर-तट पर गाऊँ
  बालू के घर बना-मिटाऊँ
  गाते ही गाते घर आऊँ
                             सोच न हारे-जीते

 नव नव धुन जागे क्षण-क्षण में
 नित नव राग उठे जीवन में
 गीतों मे सज दूँ जो मन में
                            दुख हों मीठे-तीते
                         जीवन गाते-गाते बीते
और पहुँच कर अन्तिम सुर पर सुमनान्जलि-सा रीते