भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीवन चाल चलन नईं दै रये / महेश कटारे सुगम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीवन चाल चलन नईं दै रये ।
मूतन और हगन नईं दै रये ।

सत्यानाश करौ बगिया कौ,
फूलन और फलन नईं दै रये ।

ठाण्ढौ कर दऔ डर कौ पैरौ,
कोउ खौं कितऊँ हलन नईं दै रये ।

भूखौ प्यासौ बैठारें हैं,
घर सें मनौ भगन नईं दै रये ।

उनकौ तौ मुर्गा रंध रऔ है,
कोउ की दार गलन नईं दै रये ।

एक जात तौ आत दूसरी,
आफत सुगम टरन नईं दै रये ।