भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जी रही थी मैं / बेल्ला अख़्मादुलिना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जी रही थी मैं अमिट कलंक में
फिर भी मन मेरा निर्मल रहा
एक महासागर था और वह मैं थी
और कोई नहीं

ओ तुम डरे हुए
शायद ही स्वयं तैर पाते तुम
यह तो मैं कोमल सुकुमार लहर की तरह
तुमको निकाल ले आई किनारे तक

दया कर बैठी हूँ मैं अपने साथ
कैसे भूल गई मैं विपत्ति के उन क्षणों में
नीली मछली बन सकते थे
मेरे बैंजनी जल में तुम

मेरे साथ सिसकते
विलाप कर रहे हैं समुद्र
ओ मेरे अभागे शिशु
क्षमा करना मुझे तुम!

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : वरयाम सिंह