भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जुनीभरिलाई पीर संगालेर अब टाढा टाढा हुँदैछु / भीम विराग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


जुनीभरिलाई पीर संगालेर अब टाढा टाढा हुँदैछु
काँडा माथि पाइला राखी बिदा लिंदैछु

निर्धा मेरा ईच्छाहरूले पिरोल्न चाहन्न
मेरो दुखी यात्राभरि भुलाउन चाहन्न
बिपनीका यादहरू तिमीलाई नै छोडी
सपनीका साथहरू भुली जाँदैछु

आफैं दुख्छ जिन्दगी यो दुख्दै कति हाँस्नु
मायाका गीतहरू गाउँदै कति बाँच्नु
बिपनीका यादहरू तिमीलाई नै छोडी
सपनीका साथहरू भुली जाँदैछु