भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जूण रा आंटा / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सालां साल
काळ दर काळ
सूको समंदर थार
पण
खेजड़ी बधै
बिना छांट
बिना आंट।

खेजड़ी जाणै
जूण रा आंटा
सांभै
धोर्यां सारू हरियाळी
काळ सारू कांटा।