भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जूते और आदमी / अंजू शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहते हैं आदमी की पहचान
जूते से होती है
आवश्यकता से अधिक
घिसे जाने पर स्वाभाविक है
दोनों के ही मुंह का खुल जाना,
बेहद जरूरी है
आदमी का आदमी बने रहना,
जैसे जरूरी है जूतों का पांवों में बने रहना,
जूते और आदमी दोनों ही
एक खास मुकाम पर भूल जाते हैं याददाश्त
आगे के चरण में
आदमी बन जाता है मुन्तज़र अल जैदी,
जूते भूल जाते हैं पांव और हाथ का
बुनियादी फर्क