भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जेहि बन सिंकियो ना डोलइ / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

जेहि बन सिंकियो ना डोलइ, बाघ सिंह गरजइ हे।
तेहि बन चललन, कवन चच्चा, अँगुरी धरि कवन बरुआ हे॥1॥
पहिले जे कटबउ[1] मूँजवा[2] मूँज के डोरी चाहिला हे।
तब कय कटबउ परसवा, परास डंडा चाहिला हे।
तब कय मारबउ मिरगवा, गिरिग छाल चाहिला हे॥2॥
जेहि बन सिंकियो न डोलइ, बाघ सिंह गरजइ हे।
तेहि बन चललन कवन भइया, अँगुरी धरि कवन बरुआ हे॥3॥
पहिले जे कटबउ मूँजवा, मूँज के डोरी चाहिला हे।
तब कय कटबउ परसवा, परास डंडा चाहिला हे।
तब कय मारबउ मिरिगवा, मिरिग छाल चाहिला हे॥4॥

शब्दार्थ
  1. काटूँगा
  2. मूँज नामक घास