भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जोग बेसाहे चलली जे कनियाँ / अंगिका लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

प्रस्तुत गीत में बेटी द्वारा जोग खरीदने के लिए दादी, चाची आदि के घर जाने का उल्लेख है।

जोग बेसाहे[1] चलली जे कनियाँ सोहबी[2]
दादी जी के अँगनमा हाँ जी।
ई जोग ककरा[3] लागी[4] हाँ जी॥1॥
ई जोग ओटबन[5]
ई जोग ककरा लागी हाँ जी।
ई जोग गौरी लागी हाँ जी॥2॥
जोग बेसाहे चलली हे सखी सब।
चाची जी के अँगनमा हाँ जी।
ई जोग ककरा लागी हाँ जी॥3॥
ई जोग ओटबन ई जोग चोटबन।
ई जोग ककरा लागी हाँ जी।
ई जोग गौरी लागी हाँ जी॥4॥

शब्दार्थ
  1. खरीदने
  2. सौभाग्यवती
  3. किसके; किसको
  4. लिए; लगेगा
  5. ‘चोटवन’ का अनुरणात्मक प्रयोग