भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो मरण को जन्म समझे / बलबीर सिंह 'रंग'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो मरण को जन्म समझे,
मैं उसे जीवन कहूँगा।

वह नहीं बन्धन कि जो अज्ञानता में बाँध ले मन,
और फिर सहसा कभी जो टूट सकता हो अकारण।
मुक्ति छू पाये न जिसको,
मैं उसे बन्धन कहूँगा।

वह नहीं नूतन कि जो प्राचीनता की जड़ हिला दे,
भूत के इतिहास का आभास भी मन से मिटा दे।
जो पुरातन को नया कर दे,
मैं उसे नूतन कहूँगा।

वह नहीं पूजन कि जो देवत्व में दासत्व भर दे,
सृष्टि के अवतंस मानव की प्रगति को मन्द कर दे।
भक्त को भगवान कर दे,
मैं उसे पूजन कहूँगा।